मंगलवार, 24 जून 2008

उर्दू के श्रेष्ठ व्यंग्य : लिंक


4 comments:

Udan Tashtari ने कहा…

आभार लिंक का.

श्रद्धा जैन ने कहा…

शहरोज़ जी आपको इस तरह बढ़ते देखकर मुझे बेहद खुशी हो रही है
आपकी कविताएँ है हीं इतनी अच्छी कि वो सब तक पहुँचनी ही थी
आपको मैने दोनो ही लिंक पर देखा और गौरव हुआ

आप इतना वक़्त निकालते हैं और इतने विनम्र होकर मिलते हैं

मेरी यही दुआ है कि आप इसी तरह आसमान की बुलंदियों को छुए
आमीन

डुबेजी ने कहा…

urdu ke vyangye se parichaye karane ke liye shukriya,mera blog rangparsai jaroor dekhen aur apni pratikriya bhi niyamit dete rahen

प्रभात रंजन ने कहा…

शहरोज भाई ...आपके रचना संसार से होकर गुजरा... खुद को इस लायक नहीं समझता कि आपकी तारीफ करूं ... बस इस बात की खुशी है कि अब आपकी दुनिया में ,मैं भी शामिल हूं ....

Related Posts with Thumbnails

हमारे और ठिकाने

अंग्रेज़ी-हिन्दी

सहयोग-सूत्र

लोक का स्वर

यानी ऐसा मंच जहाँ हर उसकी आवाज़ शामिल होगी जिन्हें हम अक्सर हाशिया कहते हैं ..इस नए अग्रिग्रेटर से आज ही अपने ब्लॉग को जोड़ें.